पाकिस्तान की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में हार के बाद इस वजह से अपने दामाद से बेहद खफा हुए शाहिद अफरीदी - क्रिकट्रैकर हिंदी

पाकिस्तान की ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेमीफाइनल मैच में हार के बाद इस वजह से अपने दामाद से बेहद खफा हुए शाहिद अफरीदी

मैथ्यू वेड ने कैच छूटने के बाद अगली 3 लगातार गेंदों पर लगाए थे शानदार 3 छक्के।

Shaheen Afridi and Shahid Afridi. (Photo Source: Getty Images)
Shaheen Afridi and Shahid Afridi. (Photo Source: Getty Images)

टी-20 वर्ल्ड कप 2021 का दूसरा सेमीफाइनल मैच पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच दुबई के मैदान पर 11 नवंबर को खेला गया था। सभी को उम्मीद थी कि पाकिस्तान की टीम इसमें जीत हासिल करते हुए फाइनल में अपनी जगह पक्की करेगी। लेकिन पहले बल्लेबाजी करते हुए 176 रन बनाने के बावजूद पाकिस्तान को मैच में 5 विकेट से हार का सामना करना पड़ा। इसकी सभी बड़ी वजह ऑस्ट्रेलियाई टीम के 2 खिलाड़ी मार्कस स्टोइनिस और मैथ्यू वेड रहे जिन्होंने अहम मौके पर पूरे मैच का रुख अपनी बल्लेबाजी से बदलकर रख दिया।

मैथ्यू वेड ने सेमीफाइनल मुकाबले में 17 गेंदों में शानदार नाबाद 41 रनों की पारी खेली जिसमें उनके शाहीन अफरीदी को लगाए लगातार 3 छक्कों ने सबसे ज्यादा पूरे मैच में सुर्खियां बटोरने का काम किया। जिस समय पाकिस्तान की टीम से शाहीन अफरीदी पारी का 19वां ओवर करने के लिए आए थे, उस वक्त मैच में किसी भी टीम को जीत मिल सकती थी।

इसके बाद वेड ने उनके ओवर की तीसरी गेंद पर बड़ा शॉट खेलने का प्रयास किया लेकिन हसन अली के पास गए उस कैच को उन्होंने छोड़ दिया। यहां से अगली 3 गेंदों में ही वेड ने लगातार 3 छक्के लगाते हुए पूरे मैच को खत्म करते हुए पाकिस्तानी टीम को एक ऐसी हार दे दी जिसे वह काफी समय तक नहीं भूल पाएगी।

जहां इस मैच में हार के दोषी के तौर पर काफी सारे लोग हसन अली की आलोचना कर रहे हैं, जिन्होंने अहम मौके पर वेड के उस कैच को टपका दिया। वहीं, पाकिस्तानी टीम के पूर्व कप्तान और विस्फोटक बल्लेबाज शाहिद अफरीदी का मानना है कि कैच छूटने के बावजूद शाहीन को बेहतर गेंदबाजी करनी थी जिसमें वह वेड से दूर यॉर्कर गेंद डालने का प्रयास कर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा बिल्कुल भी नहीं किया।

शाहीन अफरीदी को बेहतर तरीके से वापसी करनी चाहिए थी

शाहिद अफरीदी का बयान क्रिकविक में छपा जिसके अनुसार, मैं शाहीन से बिल्कुल भी खुश नहीं हूं क्योंकि हसन के कैच छोड़ने के बाद भी उन्हें वाइड यॉर्कर का इस्तेमाल करना चाहिए था, ना कि बल्लेबाज के मजबूत छोर पर गेंद फेंकनी थी। एक कैच छूटने का यह मतलब नहीं होता है कि आप अगली 3 गेंदों पर लगातार 3 छक्के दे दें। मुझे लगता है कि शाहीन के पास काफी अच्छी गति है और उन्हें बेहतर तरीके से वापसी करनी चाहिए थी। वह उस तरह के गेंदबाज नहीं जो लगातार 3 छक्के लगने दें।

वहीं, पाकिस्तानी टीम के कप्तान बाबर आजम ने मैच खत्म होने के बाद अपने बयान में कहा था कि, हसन अली का कैच छोड़ना मैच का टर्निंग प्वाइंट कहा जा सकता है। यदि ऐसा नहीं होता तो शायद हम परिणाम को बदल सकते थे। हालांकि, हमारी टीम ने जिस तरह से पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन किया है, उससे मैं काफी संतुष्ट हूं। मुझे उम्मीद है कि हम यहां से सबक लेते हुए आने वाले टूर्नामेंट में बेहतर प्रदर्शन करेंगे।