टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल से पहले सौरव गांगुली ने सोशल मीडिया पर साझा की पुरानी यादें - क्रिकट्रैकर हिंदी

टी-20 वर्ल्ड कप के फाइनल से पहले सौरव गांगुली ने सोशल मीडिया पर साझा की पुरानी यादें

गांगुली की अध्यक्षता में पहली बार ICC टूर्नामेंट का आयोजन किया जा रहा है।

Sourav Ganguly
Sourav Ganguly. (Photo Source: Instagram)

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली ने टी-20 वर्ल्ड कप 2021 फाइनल से पहले अपने सोशल मीडिया हैंडल पर कुछ तस्वीरें साझा की है। भारत में कोविड -19 स्थिति को देखते हुए टूर्नामेंट को यूएई और ओमान में स्थानांतरित करना पड़ा था जिसका मेजबानी का अधिकार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) और BCCI के पास था।

सौरव गांगुली टूर्नामेंट के संचालन के प्रभारी हैं। ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के बीच होने वाले फाइनल मुकाबले से पहले उन्होंने एक तस्वीर साझा की है जिसमे उन्होंने बताया है कि खिलाड़ी वर्ल्ड कप फाइनल से पहले किस दौर से गुजरते हैं। गांगुली ने 2003 वनडे वर्ल्ड कप में टीम इंडिया की कप्तानी की थी और वहां भारतीय टीम फाइनल में अपनी जगह बनाने में कामयाब रही थी।

गांगुली ने टी-20 वर्ल्ड कप 2021 फाइनल से कुछ घंटे पहले इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया। उन्होंने कैप्शन में लिखा कि ” वर्ल्ड कप फाइनल से पहले की रात पहले एक खिलाड़ी के रूप में देखा था अब एक मेजबान के रूप में।”

यहां देखिये गांगुली का वह पोस्ट

 

View this post on Instagram

 

A post shared by SOURAV GANGULY (@souravganguly)

 

View this post on Instagram

 

A post shared by SOURAV GANGULY (@souravganguly)

भारत 2003 वनडे वर्ल्ड कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से हार गया था। हालांकि गांगुली ने तब से एक लंबा सफर तय किया है, जिसमें बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन (CAB) और वर्तमान में BCCI की अध्यक्षता सहित विभिन्न प्रशासनिक भूमिकाएं निभाई हैं। भारत ने गांगुली के कार्यकाल में कई ICC कार्यक्रम खेले हैं, लेकिन यह पहली बार है जब वह मेजबान बोर्ड के प्रमुख के रूप में नजर आ रहे हैं क्योंकि उनकी नियुक्ति के बाद से भारत में किसी भी ICC टूर्नामेंट का आयोजित नहीं किया गया है।

गांगुली के साथी खिलाड़ियों में से एक वीवीएस लक्ष्मण ने फाइनल खेलने वाले दोनों टीमों को लेकर खुलकर बात की है। टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लिखते हुए उन्होंने कहा कि, “दो फाइनलिस्ट के बीच एक का चयन करना बहुत मुश्किल है, ऑस्ट्रेलिया के पास डेवोन कॉनवे के चोटिल होने से थोड़ी बढ़त है। लेकिन जैसा कि इतिहास गवाही देता है, न्यूजीलैंड एक ऐसा टीम है जिसे आप हल्के में नहीं आंक सकते हैं।”