मुश्किल होगा भारत के लिए दक्षिण अफ्रीका दौरा, जीतने के लिए बनाने होंगे 400 रन- वसीम जाफर - क्रिकट्रैकर हिंदी

मुश्किल होगा भारत के लिए दक्षिण अफ्रीका दौरा, जीतने के लिए बनाने होंगे 400 रन- वसीम जाफर

अगर टीम इंडिया जीत के साथ शुरुआत करना चाहती है तो उसके लिए 400 से ज्यादा रन बनाना बेहद आवश्यक है- जाफर

Wasim Jaffer
Wasim Jaffer. (Photo Source: Instagram/WasimJaffer)

विराट कोहली की अगुवाई में भारतीय टीम अपने कड़े प्रतिद्वंद्वी दक्षिण अफ्रीका से भिड़ने के लिए तैयार है। दोनों टीमों की बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच 26 दिसंबर से सेंचुरिया के सुपरस्पोर्ट पार्क में खेला जाएगा, यह बॉक्सिंग डे टेस्ट होगा। भारत ने दक्षिण अफ्रीका में सीमित ओवरों की सीरीज अपने नाम की है। लेकिन टीम इंडिया कभी भी दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज नहीं जीत पाई है।

इस बीच वसीम जाफर ने इस दौरे को लेकर बड़ा बयान दिया है। उनका मानना है कि अफ़्रीकी तेज गेंदबाज टेस्ट सीरीज में भारतीय बल्लेबाजों को कड़ी चुनौती देंगे। जब भारत ने 2018 में दक्षिण अफ्रीका का दौरा किया तो कगिसो रबाडा मेजबान टीम के लिए प्रमुख गेंदबाज थे।

रबाडा ने उस तीन मैचों की टेस्ट सीरीज में 15 विकेट लिए थे, और अपनी टीम को 2-1 से सीरीज जीतने में मदद की थी। जाफर ने कहा कि इस सीरीज में एक बार फिर रबाडा एक बार फिर बेहद घातक साबित हो सकते हैं और भारतीय बल्लेबाजों को उनका सामना करते समय सतर्क रहने की जरूरत है।

दक्षिण अफ्रीका का दौरा भारत के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण होगा- वसीम जाफर

Cricket Next से बातचीत के दौरान वसीम जाफर ने कहा कि, “दक्षिण अफ्रीका के पास एक अच्छा तेज गेंदबाजी आक्रमण है, इसमें कोई संदेह नहीं है (मंगलवार को, सीएसए ने कहा कि तेज गेंदबाज एनरिक नॉर्टजे को बार-बार चोटिल होने के कारण सीरीज से बाहर कर दिया गया है)। रबाडा सर्वश्रेष्ठ में से एक है। उनके पास पर्याप्त गुणवत्ता है। उनकी तेज गेंदबाजी निश्चित तौर पर भारत को चुनौती देगी। लेकिन उनकी बल्लेबाजी वैसी नहीं रही जैसी पहले थी। बहरहाल, यह भारत के लिए एक चुनौतीपूर्ण दौरा होगा।”

जाफर ने आगे कहा कि, “भारतीय तेज गेंदबाजी अब बहुत अनुभवी है। जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी के पास काफी अनुभव है। मेरा कहना है कि अगर भारतीय टीम 400 से अधिक का स्कोर बनाती है तो इस बात की अधिक संभावना है कि वो मैच जीतेगी। बल्लेबाजों के सामने बोर्ड पर रन लगाने की चुनौती होगी।”