श्रीलंका के नए कोच का दबंग अंदाज, खिलाडियों के गाने सुनने पर लगाया बैन - क्रिकट्रैकर हिंदी

श्रीलंका के नए कोच का दबंग अंदाज, खिलाडियों के गाने सुनने पर लगाया बैन

Chandika Hathurusinghe
Chandika Hathurusinghe with skipper Dinesh Chandimal. (Photo Source: Twitter)

पिछले कुछ सालों से श्रीलंका क्रिकेट में जबसे उनके दिग्गज क्रिकेटर ख़ास कर महेला जयवर्धने और कुमारा संगाकारा ने संन्यास लिया है तबसे ले कर आज तक श्रीलंका क्रिकेट उनकी जगह की भरपायी नहीं कर पायी है,जिसके चलते टीम के प्रदर्शन का ग्राफ निरंतर गिरता ही जा रहा है.इस तरह डूबती लंका क्रिकेट को बचाने के लिए नए कोच का चयन किया गया था .जिसने आते ही श्रीलंका के खिलाडियों की लगाम कास दी है.

इन सबको देखतें हुए श्रीलंका के  नए कोच बने चंदिका हथुरुसिंघा ने ट्रेनिंग सेशन के दौरान खिलाड़ियों के संगीत सुनने पर पाबंदी लगा दी है। ऐसा उन्होंने 2019 विश्वकप की तैयारियों को देखतें हुए सख्त निर्देश दिए की अगर खिलाड़ियों को म्यूजिक सुनना है तो वे अपने घर जाएं।

चंदिका 2019 विश्वकप तक बांग्लादेश के कोच रहने वाले थे, लेकिन अपने देश की क्रिकेट टीम के बिगड़ते हालात को देखतें हुए उन्होंने बांग्लादेश की कोचिंग छोड़ने का निर्णय लिया. इनसे पहले निक पोथास श्रीलंका टीम के कोच थे।

इस दौरान श्रीलंका को चैंपियन टीम बनाने के लिए चंदिका ने टीम के चयन का भी अधिकार खुद के पास रखने के लिए श्रीलंका बोर्ड में अपनी गुहार लगा चुकें है .जबकि नियम के मुताबिक़ हेड कोच टीम का चयन करने वाले पैनल का मेंबर नहीं होता है, लेकिन चंदिका चाहते हैं कि इस नियम को बदला जाए और टीम के चयन में उनका नियंत्रण रहे और वो खुली आज़ादी से अपने देश की क्रिकेट एक बार फिर अर्श से फर्श पर लाने का काम कर सके.

चंदिका का कहना है, ‘मैं प्लेयिंग 11 के सिलेक्शन में पूरा कंट्रोल चाहता हूं। स्पोर्ट्स कानून के मुताबिक चयन प्रक्रिया में कोच को शामिल नहीं किया जाता है। वे लोग सेलेक्शन पैनल में शामिल होने की मेरी मांग पर ध्यान दे रहे हैं।’

आपको बता दे की हाल ही में पाकिस्तान के खिलाफ क्लीन स्वीप और भारत के हाथो लगातार दो सीरीज में बुरी तरह से हारने के कारण श्रीलंका क्रिकेट अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है.

ऐसे में देखना दिलचस्प होगा की श्रीलंका के नए कोच का ये दबंग अंदाज श्रीलंका क्रिकेट को वापस एक वर्ल्ड कप चैम्पियन जैसी टीम बना पाता हैं या नहीं ?