T20 World Cup 2007 Recap: युवराज के 6 छक्के, फाइनल में गंभीर का जलवा, और धोनी की कप्तानी में भारत बना था चैंपियन

T20 World Cup 2007 Recap: युवराज के 6 छक्के, फाइनल में गंभीर का जलवा, और धोनी की कप्तानी में भारत बना था चैंपियन

टी20 वर्ल्ड कप के पहले संस्करण का खिताब 2007 में भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में जीता था।

T20 World Cup 2007 Winner Team India (Photo Source: Getty Images)
T20 World Cup 2007 Winner Team India (Photo Source: Getty Images)

ICC T20 World Cup 2007 Recap: टी20 वर्ल्ड कप का 9वां संस्करण वेस्टइंडीज और अमेरिका की संयुक्त मेजबानी में 2 जून से शुरू होने वाला है। आगामी टूर्नामेंट में कुल 20 टीमें भाग लेने वाली है, जिन्हें चार ग्रुपों में बांटा गया है, हर ग्रुप में 5 टीमें हैं। आपको बता दें टी20 वर्ल्ड कप के पहले संस्करण का खिताब 2007 में भारत ने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में जीता था। टूर्नामेंट साउथ अफ्रीका में 11 से 24 सितंबर 2007 तक खेला गया था।

इस संस्करण में 12 टीमों ने भाग लिया था, जिसमें से 10 टीमें टेस्ट फॉर्मेट खेलने वाले देशें थी। और 2007 WCL डिवीजन वन टूर्नामेंट की फाइनलिस्ट टीमें केन्या और स्कॉटलेंड थी। इन 12 टीमों के चार ग्रुपों में बांटा गया था, हर ग्रुप में तीन टीमें मौजूद थी। आइए आपको 2007 टी20 वर्ल्ड कप की पूरी कहानी बताते हैं।

ICC T20 World Cup 2007 Recap: टी20 वर्ल्ड कप 2007 के नियम-

  1. ग्रुप स्टेज और सुपर-8 मुकाबलों के दौरान जो भी टीम मैच जीतेगी, उन्हें 2 अंक, मैच रद्द हुआ तो दोनों टीमों को 1-1 अंक, वहीं हार पर शून्य अंक मिलें।
  2. अगर मैच टाई होता है (अर्थात, दोनों टीमें अपनी-अपनी पारी के अंत में बिल्कुल समान रन बनाती हैं) तो बॉल-आउट से विजेता का फैसला किया गया था। 

T20 World Cup 2007 Recap: ग्रुप स्टेज

टी20 वर्ल्ड कप 2007 ग्रुप-ए में साउथ अफ्रीका, बांग्लादेश, और वेस्टइंडीज थी।

ग्रुप-बी- ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और जिम्बाब्वे

ग्रुप-सी- श्रीलंका, न्यूजीलैंड, और केन्या

ग्रुप-डी- भारत, पाकिस्तान और स्कॉटलैंड

ग्रुप स्टेज राउंड के अंत में चारों ग्रुपों में टॉप-2 में रहने वाली टीम सुपर-8 में पहुंची थी। हालांकि आपको बता दें सुपर-8 राउंड की टीमें टूर्नामेंट शुरू होने से पहले से डिसाइड हो चुकी थी। ग्रुप स्टेज के बाद हर ग्रुपों से वहीं दो टीमें सुपर-8 में पहुंची थी, लेकिन ग्रुप-ए में थोड़ी अदला-बदली देखने को मिली। ग्रुप-ए से साउथ अफ्रीका और वेस्टइंडीज सुपर-8 का हिस्सा थी।

लेकिन बांग्लादेश ने ग्रुप स्टेज में दो में से एक मैच जीत कर और दो अंकों के साथ अंक तालिका में दूसरे स्थान पर जगह बनाई थी। वहीं वेस्टइंडीज दो में से एक भी मैच नहीं जीत पाई थी। जिसके चलते साउथ अफ्रीका (4 अंक) और बांग्लादेश (2 अंक) सुपर-8 में पहुंची थी।

युवराज सिंह ने सुपर-8 राउंड के मुकाबले में स्टुअर्ट ब्रॉड के खिलाफ लगाए थे 6 छक्के

टी20 वर्ल्ड कप 2007 सुपर-8 राउंड में इंग्लैंड के खिलाफ मैच में युवराज सिंह ने एक ओवर में लगातार 6 छक्के लगाए थे। पारी की सिर्फ 20 गेंदें बाकी थी, जब युवराज बैटिंग करने के लिए आए थे। स्टुअर्ट ब्रॉड द्वारा डाले गए 19वें ओवर में युवराज सिंह ने 6 छक्के जड़ 36 रन बटोरे थे। उन्होंने मात्र 12 गेंदों में अर्धशतक ठोका था, और टी20 फॉर्मेट में सबसे तेज अर्धशतक बनाने वाले बल्लेबाज बने थे।

T20 World Cup 2007 Recap: सुपर-8

सुपर-8 राउंड में 8 टीमों को चार-चार की टीम में दो ग्रुपों ( E और F) में बांटा गया था। ग्रुप-ई में भारत, न्यूजीलैंड, साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड थी। वहीं ग्रुप-एफ में पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और बांग्लादेश थी।

ग्रुप-ई से भारत (4 अंक) और न्यूजीलैंड (4 अंक) और ग्रुप-एफ से पाकिस्तान (6 अंक) और ऑस्ट्रेलिया (4 अंक) सेमीफाइनल में पहुंची थी।

सेमीफाइनल मुकाबलों का हाल

टी20 वर्ल्ड कप 2007 का पहला सेमीफाइनल मुकाबला न्यूजीलैंड और पाकिस्तान के बीच केपटाउन में खेला गया था। पाकिस्तान ने न्यूजीलैंड को 6 विकेट से हराकर फाइनल में जगह बनाई थी। कीवी टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट के नुकसान पर 143 रन बनाए थे। इसके जवाब में पाकिस्तान ने 18.5 ओवरों में ही लक्ष्य का पीछा कर लिया था।

वहीं दूसरा सेमीफाइनल भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच डरबन में खेला गया था। भारत ने 15 रनों से जीत दर्ज कर फाइनल में जगह पक्की थी। मुकाबले में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट के नुकसान पर 188 रन बनाए थे। ऑस्ट्रेलिया लक्ष्य का पीछा करते हुए 20 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 173 रन ही बना पाई थी।

फाइनल में गौतम गंभीर ने दिखाया था जलवा

टी20 वर्ल्ड कप 2007 का फाइनल मुकाबला भारत और पाकिस्तान के बीच 24 सितंबर को जोहान्सबर्ग में खेला गया था। भारत ने 5 रनों से जीत दर्ज कर टूर्नामेंट का पहला खिताब अपने नाम किया था। टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट के नुकसान पर 157 रन बनाए थे। युवराज सिंह और कप्तान एमएस धोनी दोनों ही फाइनल में फेल हुए थे।

गौतम गंभीर ने 54 गेंदों में 75 रनों की पारी खेल टीम को सम्मानजनक टोटल पर पहुंचाया था। पाकिस्तान लक्ष्य का पीछा करते हुए 19.3 ओवरों में 152 रनों पर ऑलआउट हो गई थी। इरफान पठान और आरपी सिंह ने 3-3 विकेट लिए थे। वहीं जोगिंदर शर्मा ने दो विकेट लिया था।

टी20 वर्ल्ड कप 2007 में सर्वाधिक रन और विकेट लेने वाले खिलाड़ी

टी20 वर्ल्ड कप 2007 में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी मैथ्यू हेडन सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज थे। हेडन ने 6 मैचों में 88.33 के औसत और 144.80 की स्ट्राइक रेट से 265 रन बनाए थे। भारतीय खिलाड़ी गौतम गंभीर 7 मैचों में 227 रनों के साथ सूची में दूसरे स्थान पर थे।

पाकिस्तानी खिलााड़ी उमर गुल टूर्नामेंट में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबााज थे। उन्होंने 7 मैचों में 5.60 की इकॉॉनमी से 13 विकेट लिए थे।

close whatsapp