टी-20 वर्ल्ड कप 2022: वसीम जाफर ने चुने अपने हर समय के बेहतरीन फिनिशर - क्रिकट्रैकर हिंदी

टी-20 वर्ल्ड कप 2022: वसीम जाफर ने चुने अपने हर समय के बेहतरीन फिनिशर

अगर टी-20 क्रिकेट के पहले के समय के खिलाड़ियों को शामिल किया जाए तो मैं यह कहूंगा कि माइकल बेवन ने काफी बार लक्ष्य का पीछा करते हुए अपनी टीम को जीत दिलाई है: वसीम जाफर

Wasim Jaffer. (Photo Source: Twitter)
Wasim Jaffer. (Photo Source: Twitter)

भारतीय टीम ने अपने ICC टी-20 वर्ल्ड कप 2022 के अभियान की शुरुआत काफी धमाकेदार तरीके से की है। उन्होंने 23 अक्टूबर को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड (MCG) में खेले गए मुकाबले में पाकिस्तान को 4 विकेट से मात दी। यह मैच अंतिम गेंद तक गया, जिसमें भारत ने बाजी मार ली।

बता दें, इस ऐतिहासिक मुकाबले में अनुभवी बल्लेबाज विराट कोहली ने 53 गेंदों में 82* रन की शानदार अर्धशतकीय पारी खेली। उनके अलावा हार्दिक पांड्या ने 40 रन बनाए। यह कहना गलत नहीं होगा कि अगर भारतीय टीम इस मैच को अपने नाम कर पाई है तो इसका पूरा श्रेय विराट कोहली की इस शानदार पारी को जाता है। क्रिकेट में ऐसे कई खिलाड़ी है जो अपनी बेहतरीन पारी के बदौलत मुकाबले का रुख पूरी तरह से अपनी ओर मोड़ सकते हैं। पहले भी ऐसे हुआ है और आगे भी ऐसा होगा। भारत के पूर्व खिलाड़ी वसीम जाफर ने अपने हर समय के बेहतरीन फिनिशरों को चुना है।

क्रिकट्रैकर के शो ‘रन की रननीति’ में वसीम जाफर ने कहा कि, ‘अगर टी-20 क्रिकेट के पहले के समय के खिलाड़ियों को शामिल किया जाए तो मैं यह कहूंगा कि माइकल बेवन ने काफी बार लक्ष्य का पीछा करते हुए अपनी टीम को जीत दिलाई है। अगर वो लक्ष्य का पीछा करते हुए आखिरी तक टिके हैं तो आपको पता है कि ऑस्ट्रेलिया ज्यादातर मुकाबले जीतेगी। जावेद मियांदाद ने भी काफी बार पाकिस्तान को अपनी शानदार बल्लेबाजी से जीत दिलाई है।’

वसीम जाफर की लिस्ट में महेंद्र सिंह धोनी का नाम भी शामिल

वसीम जाफर ने अपनी इस लिस्ट में भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी का नाम भी शामिल किया। बता दें, धोनी को दुनिया के बेहतरीन फिनिशरों में गिना जाता है।

वसीम जाफर ने आगे कहा कि, ‘महेंद्र सिंह धोनी ने टी-20 क्रिकेट में एक अलग ही मुकाम हासिल किया है। उन्होंने कई बार और वो भी दबाव वाले मुकाबलों में भारत को जीत दिलाई है और साथ ही यह भी बताया है कि कैसे मुकाबले को खत्म करना चाहिए। मुकाबले को आखिर तक ले जाएं और उसके बाद गेंदबाजों के ऊपर दबाव डालें।

धोनी को यह बात पता रहती है कि अगर उन्होंने कुछ गेंदों को बाउंड्री के पार भेज दिया तो वो आराम से मैच को अपने नाम कर लेंगे।’ बता दें, एमएस धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है और वो अब सिर्फ IPL में खेलते हुए नजर आते हैं।

वसीम जाफर ने आगे कहा कि, ‘पाकिस्तान के खिलाफ भी ऐसा ही मैच देखने को मिला। आखिरी 3 ओवरों में भारत को 48 रन की दरकार थी और कोहली और पांड्या ने दो से तीन छक्के जड़ गेंदबाजों के ऊपर दबाव डाल दिया। मुझे लगता है कि महेंद्र सिंह धोनी की तकनीक का विराट कोहली ने भरपूर फायदा उठाया।’