न्यूजीलैंड को हराने के बाद, अब विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए भरी हुंकार - क्रिकट्रैकर हिंदी

न्यूजीलैंड को हराने के बाद, अब विराट कोहली ने दक्षिण अफ्रीका दौरे के लिए भरी हुंकार

दूसरे टेस्ट मैच में भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रनों से हराया।

Virat Kohli. (Photo Source: BCCI)
Virat Kohli. (Photo Source: BCCI)

मुंबई टेस्ट मैच का जब तीसरा दिन का खेल समाप्त हुआ तब-तक ये लगभग साफ हो चूका था कि भारत इस मैच को चौथे दिन बड़े अंतर से जीतेगा। टेस्ट मैच के आखिरी दो दिनों में न्यूजीलैंड को जीत दर्ज करने के लिए 400 रन बनाने थे। लेकिन जिस तरह से वानखेड़े की पिच घूम रही थी वैसे में न्यूजीलैंड के लिए टेस्ट मैच बचाना कहीं से भी आसान नहीं था।

टेस्ट मैच के चौथे दिन कीवी टीम के दो बल्लेबाज हेनरी निकल्स और रचिन रवींद्र के हाथ में एक बड़ा काम था। न्यूजीलैंड को कानपुर टेस्ट बचाने में मदद करने वाले रचिन रवींद्र कुछ खास नहीं कर सके। जयंत यादव ने 52वें ओवर में मेहमान टीम को 162 के स्कोर पर छठा झटका दिया, उन्होंने रचिन रवींद्र को पवेलियन भेजा।

वहां से कीवी टीम को एक-एक रन के लिए संघर्ष करना पड़ा। अंत में, वो 56.3 ओवर में 167 रन पर आउट हो गए। जयंत यादव ने कीवी टीम के निचले क्रम के बल्लेबाजों को आसानी से पवेलियन भेज दिया। वहीं दूसरे छोर पर निकल्स ने दमदार प्रदर्शन करते हुए आठ चौकों की मदद से 44 रन बनाए, वह अश्विन के चौथे शिकार बने और उनके आउट होते ही भारत इस टेस्ट मैच को 372 रनों से जीतने में कामयाब रहा।

मैच जीतने के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने क्या कहा ?

मैच के बाद जब विराट कॉन्फ्रेंस में आए तो उन्होंने कहा कि, “यह ऐसा प्रदर्शन है जो हम पिछले लंबे समय से करते आ रहे हैं। कानपुर टेस्ट नजदीकी रहा था लेकिन यह टेस्ट हमारे लिए बेहद शानदार रहा। कानपुर में विरोधी टीम ने अच्छा मैच ड्रॉ कराया। वहां पिच पांचवें दिन की तरह बर्ताव नहीं कर रही थी, गेंदबाजों ने पूरी कोशिश की थी। लेकिन यहां पर अच्छा विकेट था, टर्न था और बाउंस थी। जिसकी वजह से गेंदबाजों को अपना काम करने में मुश्किल नहीं आई।”

इस बार दक्षिण अफ्रीका में सीरीज जीतेंगे विराट कोहली

भारतीय क्रिकेट के भविष्य को लेकर बात करते हुए विराट ने कहा कि, “कल को मैं कप्तान नहीं रहूंगा, कल को राहुल भाई कोच नहीं रहेंगे, लेकिन हमारा लक्ष्य यही है कि भारतीय क्रिकेट शिखर पर पहुंचे। हमने दक्षिण अफ्रीका में पिछली बार अच्छा किया था। हम समझ चुके हैं कि वहां कैसे खेलना हैं। विदेश में हम पिछले कुछ सालों से अच्छा करते आ रहे हैं। अब मौका है कि दक्षिण अफ्रीका में एक अच्छा क्रिकेट खेला जाए।”