नॉन-स्ट्राइकर एंड पर रन आउट को लेकर हार्दिक का बयान, कहा- 'खेल भावना जाए भाड़ में' - क्रिकट्रैकर हिंदी

नॉन-स्ट्राइकर एंड पर रन आउट को लेकर हार्दिक का बयान, कहा- ‘खेल भावना जाए भाड़ में’

पांड्या ने कहा, अगर मैं अपनी क्रीज से बाहर हूं और कोई मुझे रन आउट करता है तो ये ठीक है।

Hardik Pandya (Image Source: Twitter)
Hardik Pandya (Image Source: Twitter)

24 सितंबर 2022 की तारीख को क्रिकेट इतिहास में हमेशा के लिए दीप्ति शर्मा द्वारा चार्ली डीन को नॉन-स्ट्राइकर एंड पर रन आउट को लेकर याद रखा जाएगा। दीप्ति शर्मा के इस रन आउट के कारण ही वूमेन टीम इंडिया लॉर्ड्स में इंग्लैंड के खिलाफ 3-0 से एकदिवसीय सीरीज जीतने में कामयाब रही थी।

हालांकि ये सीरीज टीम इंडिया ने तो जीत ली, लेकिन इस घटना के बाद इस बात की चर्चा तेज हो गई थी कि नॉन-स्ट्राइकर एंड रन आउट या मांकडिंग खेल भावना के खिलाफ या नहीं। इसे लेकर पूर्व खिलाड़ियों ने और क्रिकेट पंडितो ने खूब चर्चा की, और अब इस कड़ी में नया नाम भारत के हरफनमौला खिलाड़ी हार्दिक पांड्या का जुड़ गया है।

पिछले एक महीने से अधिक समय से नॉन-स्ट्राइकर एंड रन आउट को लेकर चर्चा हो रही है। इस पर हार्दिक पांड्या ने कहा है कि दीप्ति शर्मा को धन्यवाद, उन्होंने एक गर्म विषय को जन्म दिया। इसके अलावा पांड्या ने कहा कि उन्हें इससे कोई समस्या नहीं है।

हार्दिक पांड्या ने दिया बड़ा बयान

टीम इंडिया के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने आईसीसी रिव्यू पॉडकास्ट पर कहा कि, हमें नॉन-स्ट्राइकर को एन्ड पर रन आउट करने के बारे में हंगामा नहीं करना चाहिए। यह एक नियम है, हमें इसका पालन करना होगा। खेल की भावना जाए नरक में, अगर यह है, तो यह है।

इसके अलावा पांड्या ने कहा कि अगर आपको इससे कोई समस्या है तो आपके लिए अच्छा है। व्यक्तिगत रूप से, मुझे इससे कोई समस्या नहीं है। अगर मैं अपनी क्रीज से बाहर हूं और कोई मुझे रन आउट करता है तो ठीक है। यह मेरी गलती है।

पॉडकास्ट में मैचअप को लेकर भी पांड्या ने दिया बयान 

हार्दिक पांड्या ने मैचअप को लेकर कहा कि यह मेरे लिए काम नहीं करता है, यह देखें कि मैं कहां बल्लेबाजी करता हूं और मैं जिस स्थिति में आता हूं, मुझे मैचअप नहीं मिलता है। आप देखते हैं कि टॉप 3 या 4 में बल्लेबाजी करने वाले लोगों के लिए मैचअप ज्यादा होते हैं। ऐसा कई बार हुआ है, जब मैं एक गेंदबाज को हिट करना चाहता हूं, लेकिन अगर स्थिति इसकी मांग नहीं करती है, तो मैं वह जोखिम नहीं लेता क्योंकि यह मेरी टीम को नुकसान पहुंचाएगा

उन्होंने आगे कहा मैं इसके साथ कभी ठीक नहीं हूँ। मैचअप, यह ओवर रेटेड है। मुझे यह कहने में कोई आपत्ति नहीं है, टी-20 क्रिकेट में इसे ओवररेटेड किया जाता है। वनडे और टेस्ट में यह काम कर सकता है लेकिन टी-20 में मैं इस पर विश्वास नहीं करता। हां, मैंने विश्व कप नहीं जीता है, लेकिन मैंने अन्य टूर्नामेंट जीते हैं और मुझे नहीं लगता कि मुझे कभी भी मैचअप की चिंता हुई है।