विराट कोहली और BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली के बीच कप्तानी को लेकर अनबन पर अब पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री की तरफ से आया यह बयान - क्रिकट्रैकर हिंदी

विराट कोहली और BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली के बीच कप्तानी को लेकर अनबन पर अब पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री की तरफ से आया यह बयान

शास्त्री के अनुसार इस पूरे मामले को बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था।

Sourav Ganguly and Ravi Shastri. (Photo Source: Getty Images)
Sourav Ganguly and Ravi Shastri. (Photo Source: Getty Images)

भारतीय क्रिकेट में पिछले एक महीने में कप्तानी के मुद्दे को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा देखने को मिली है। जिसमें विराट कोहली को वनडे की कप्तानी से हटाए जाने के फैसले ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया। जिसमें कोहली और मौजूदा भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) अध्यक्ष सौरव गांगुली के बीच में अनबन साफतौर पर देखने को मिली। इसी पर भारतीय टीम के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री के अनुसार इस मामले को बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था।

पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री के अनुसार के इस मामले में विराट कोहली ने अपना पक्ष पहले ही साफ कर दिया जिसके बाद अब BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली को भी अपना पक्ष रखना चाहिए। जिसमें कोहली की प्रेस वार्ता के दौरान उनके एक दिए बयान पर सबसे ज्यादा सवाल खड़े किए जा रहे हैं।

दरअसल सौरव गांगुली ने दिसंबर महीने की शुरुआत में अपने एक बयान में कहा कि, कोहली से BCCI ने टी-20 फॉर्मेट में कप्तानी छोड़ने से मना किया था। लेकिन उन्होंने अपना फैसला नहीं बदला जिसके बाद इसी को लेकर कोहली से जब प्रेस वार्ता में सवाल पूछा गया तो उन्होंने साफतौर पर कह दिया उनसे इसको लेकर किसी ने बात नहीं की थी।

रवि शास्त्री ने इंडियन एक्सप्रेस ई.अड्डा के साथ बातचीत के दौरान इस मामले पर कहा कि, विराट ने अपने पक्ष की पूरी कहानी बता दी है, जिसके बाद अब बोर्ड अध्यक्ष को अपनी बात रखनी चाहिए ताकि पूरे मामले को साफतौर पर समझा जा सके। इस मामले को बातचीत के जरिए बेहतर तरीके से संभाला जा सकता था।

रोहित शर्मा को लिमिटेड ओवर्स कप्तान बनाना सही

वहीं रवि शास्त्री ने अपनी इस बातचीत के दौरान रोहित शर्मा को लिमिटेड ओवर्स कप्तान बनाए जाने के फैसले को लेकर भी अपनी राय रखी। जिसमें उन्होंने कहा कि, रोहित हमारे टी-20 फॉर्मेट में कप्तानी की जिम्मेदारी जहां पहले ही संभाल चुके थे, जिसके बाद लिमिटेड ओवर्स में उनको जरूर कप्तान बनाया जाना था। जब विराट ने कहा कि वह टी-20 में आगे टीम की कप्तानी नहीं करना चाहते तो उसी समय रोहित का नाम तय हो चुका था।

हालांकि रवि शास्त्री ने अपने बयान में कोहली की टेस्ट कप्तान के तौर पर जरूर तारीफ की, जिसमें उन्होंने कहा कि बिना किसी संदेह के विराट कोहली के सर्वश्रेष्ठ टेस्ट कप्तान हैं और आप यह सब उनके रिकॉर्ड के जरिए देख सकते हैं। जिसमें वर्ल्ड में शायद ही किसी कप्तान ने अपनी टीम का नेतृत्व इस फॉर्मेट में इस जुनून के साथ किया है।