क्या विराट और रोहित की वजह से ईशान किशन नहीं कर पा रहे हैं इस आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन? - क्रिकट्रैकर हिंदी

क्या विराट और रोहित की वजह से ईशान किशन नहीं कर पा रहे हैं इस आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन?

मेगा ऑक्शन में ईशान किशन को मुंबई इंडिंयस ने 15.25 करोड़ में खरीदा था।

Ishan Kishan
Ishan Kishan. (Photo Source: IPL/BCCI)

मुंबई इंडियंस के ओपनर विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन ने खुलासा किया है कि जब मुंबई इंडियंस ने उन्हे 15.25 करोड़ रुपए में खरीदा था तब विराट कोहली, रोहित शर्मा और हार्दिक पांड्या ने उन्हे सलाह दी थी कि वह कीमत के बारे में ज्यादा ना सोचें और इसको अपने प्रदर्शन पर हावी न होने दे। उन्होंने कहा कि जब आप आईपीएल में ज्यादा महंगे बिकते हैं तो यह प्राइस टैग आपके प्रदर्शन पर हावी हो जाता है।

बता दें कि मुंबई इंडियंस ने मेगा ऑक्शन में विकेटकीपर बल्लेबाज ईशान किशन को 15.25 करोड़ रुपए में अपनी टीम में शामिल किया था। किशन आईपीएल 2022 के सबसे महंगे खिलाड़ी थे। इस विकेटकीपर बल्लेबाज ने आईपीएल 2022 के अपने पहले मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ 48 गेंदो में नाबाद 81 रन की पारी खेली थी। यही नहीं किशन ने अपने दूसरे मुकाबले में भी अर्धशतक जड़ा था। लेकिन इसके बाद ईशान किशन का प्रदर्शन पूरे आईपीएल में काफी साधारण रहा है।

सब ने मुझे यही सलाह दी कि प्राइस टैग के बारे में ज्यादा ना सोचो: ईशान किशन

बता दें कि, शुरुआती दो मुकाबले के बाद ईशान किशन का प्रदर्शन काफी साधारण रहा। उन्होंने इसके बाद के 6 मुकाबलों में मात्र 64 रन बनाए। शायद इन्हीं वजहों से मुंबई इंडियंस भी इस साल अंक तालिका में सबसे नीचे है और प्लेऑफ की दौड़ से बाहर हो गई है। मुंबई में अभी तक 11 मुकाबले खेले हैं और सिर्फ 2 में जीत दर्ज कर पाए हैं।

मीडिया कॉन्फ्रेंस में ईशान किशन ने कहा कि, प्राइस टैग का प्रेशर आपके साथ ऑक्शन के बाद ज्यादा से ज्यादा 1 से 2 दिन तक रहेगा। लेकिन इस स्तर पर मुझे इन सब चीजों के बारे में ज्यादा नहीं सोचना चाहिए। मैं सिर्फ यह सोच रहा हूं कि अपने प्रदर्शन से मैं कैसे टीम को जीत दिला सकूं। प्राइस टैग का प्रेशर कुछ दिनों तक रहता है लेकिन हमारे साथ काफी अच्छे सीनियर्स हैं जो इन सब चीजों को लेकर लगातार कुछ न कुछ सीख देते रहते हैं।

उन्होंने कहा कि, “कई सीनियर जैसे रोहित भाई, विराट भाई (विराट कोहली) और हार्दिक भाई ने कहा कि मुझे मोटी कीमत के बारे में नहीं सोचना चाहिए, क्योंकि मैंने यह धनराशि नहीं मांगी थी। यदि किसी ने (मुझ पर) विश्वास किया है, तो तब उन्होंने बड़ी बोली लगाई। मोटी कीमत के बारे में सोचने के बजाय यह महत्वपूर्ण है कि मैं अपने खेल में सुधार करने के बारे में कैसा सोचता हूं। सीनियर से बात करने पर मुझे इसमें मदद मिली क्योंकि वे सभी उस दौर से गुजर चुके हैं।