भारतीय टीम का मेंटर बनते ही इस कारण धोनी के खिलाफ दर्ज हुई शिकायत - क्रिकट्रैकर हिंदी

भारतीय टीम का मेंटर बनते ही इस कारण धोनी के खिलाफ दर्ज हुई शिकायत

धोनी पर हितों का टकराव का आरोप लगा है।

MS Dhoni. (Photo Source: Twitter)
MS Dhoni. (Photo Source: Twitter)

यूएई और ओमान में 17 अक्टूबर से होने वाले टी-20 वर्ल्ड के लिए 15 सदस्यीय भारतीय टीम का ऐलान 8 सितंबर की रात को कर दिया गया। इसके साथ ही भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को वर्ल्ड कप के दौरान टीम का मेंटर बनाए जाने का भी ऐलान किया। इस खबर के बाद जहां सभी क्रिकेट फैंस को काफी खुशी हुई वहीं धोनी के ड्रेसिंग रुम में एकबार फिर से मौजूदगी को लेकर भी सकारात्मक बयान ही हर तरफ से देखने को मिले हैं।

अब इस फैसले के 24 घंटे के अंदर बीसीसीआई की एपेक्स कॉउंसिल को धोनी के खिलाफ हितों के टकराव मामले में शिकायत मिली है। यह शिकायत मध्यप्रदेश क्रिकेट संघ (एमपीसीए) के पूर्व आजीवन सदस्य, इंदौर के संजीव गुप्ता ने दर्ज कराई है। जिसमें लोढ़ा लोढ़ा कमिटी के नियमों का हवाला देते हुए कहा है कि कोई भी व्यक्ति एक साथ दो पद पर नहीं रह सकता है। ऐसे में धोनी को टी-20 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम का मेंटर बनाना नियमों का उल्लंघन है।

दरअसल धोनी आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान हैं और उन्हें बीसीसीआई ने अब आगामी टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया का मार्गदर्शक घोषित किया है, जिसके चलते इस नियम के तहत धोनी के खिलाफ यह मामला उठाया गया है।

बीसीसीआई के एक सूत्र का इंडियन एक्सप्रेस में छपे बयान के अनुसार उन्होंने कहा कि, ‘हां, गुप्ता ने सौरव गांगुली और जय शाह समेत एपेक्स कॉउंसिल के सदस्यों को शिकायत भेजी है। उन्होंने बीसीसीआई के संविधान के अनुच्छेद 38(4) का हवाला देते हुए यह चिट्ठी लिखी है जिसके अनुसार एक व्यक्ति दो पदों पर नहीं रह  सकता है। अब एपेक्स कॉउंसिल इस संबंध में अपने न्यायिक टीम से चर्चा करेगी।’

धोनी एक साथ 2 पदों पर नहीं रह सकते

बीसीसीआई के नए नियमों के अनुसार कोई भी व्यक्ति एक साथ 2 पदों पर नियुक्त नहीं किया जा सकता है। हालांकि धोनी को मेंटर बनाए जाने की खबर का ऐलान होते ही फैंस काफी खुशियां मनाते हुए देखे गए। साल 2020 के अगस्त महीने में धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से अचानक अपने संन्यास के फैसले का ऐलान करते हुए सभी को चौंका दिया था।

गुप्ता इससे पहले भी ऐसे कई मामलों को लेकर शिकायत दर्ज करवा चुके हैं। अब यह देखना दिलचस्प होगा कि बीसीसीआई इस मामले को टी-20 वर्ल्ड कप शुरू होने से पहले किस तरह से सुलझा पाती है।