हरभजन ने संन्यास के बाद किया बड़ा खुलासा, कहा- मुझे सही समय पर समर्थन नहीं मिला - क्रिकट्रैकर हिंदी

हरभजन ने संन्यास के बाद किया बड़ा खुलासा, कहा- मुझे सही समय पर समर्थन नहीं मिला

मैं टेस्ट क्रिकेट में 500-550 विकेट ले सकता था- हरभजन सिंह

Harbhajan Singh
Harbhajan Singh. (Photo Source: IPL/BCCI)

अनुभवी भारतीय ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह ने शुक्रवार 23 दिसंबर को अपने शानदार करियर से संन्यास का ऐलान किया। 41 वर्षीय हरभजन ने ट्विटर पर एक हार्दिक पोस्ट के साथ बड़ी घोषणा की। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 711 विकेट लेने के बाद उन्होंने अपने करियर को विराम दिया। करियर में शानदार रिकॉर्ड होने के बावजूद, पिछले कुछ वर्षों में वह अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पा रहे थे।

जैसे ही रविचंद्रन अश्विन भारत के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन करने लगे उसके बाद हरभजन को टीम से बाहर कर दिया गया। भज्जी ने फरवरी 2016 में अपनी आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच खेला था। राष्ट्रीय टीम से उनके बेवजह बाहर होने के बारे में पूछे जाने पर, हरभजन ने कहा कि उन्हें अचानक से बाहर करने के पीछे का कारण किसी ने भी नहीं बताया।

किसी ने मुझे टीम से बाहर करने का कारण नहीं बताया- हरभजन सिंह

दैनिक जागरण से बातचीत के दौरान हरभजन सिंह ने कहा कि, “जब कोई 400 से अधिक विकेट लेता है और फिर उसे मौका नहीं मिलता है या उसे ड्रॉप का कारण नहीं बताया जाता है, तो मन में कई तरह के सवाल उठते हैं। मैंने कई लोगों से टीम से बाहर होने के बारे में पूछा, लेकिन मुझे कोई जवाब नहीं मिला।”

उन्होंने आगे कहा कि, “उस समर्थन को पाकर हमेशा अच्छा लगता है। मैं कहूंगा कि अगर मुझे सही समय पर समर्थन मिलता, तो मैं 500-550 विकेट लेने के बाद बहुत पहले ही संन्यास ले लेता क्योंकि जब मैं 400 विकेट के आंकड़े तक पहुंचा था तब मैं 31 साल का था। अगर मैं 3-4 साल और खेलता, तो मैं 500 विकेट तक पहुंच जाता, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।”

अंत में उन्होंने कहा कि, “कई कारण थे और अगर मैं उन पर ध्यान दूं, तो हम शायद बहुत सी चीजें खो देंगे। मुझे 2001-02 के बाद कभी समर्थन की आवश्यकता महसूस नहीं हुई; 400 विकेट लेने के बाद मुझे समर्थन की जरूरत थी और अगर किसी खिलाड़ी को उस मुकाम तक पहुंचने के बाद इसकी जरूरत होती है, तो मुझे नहीं पता कि हम अपने खिलाड़ियों की देखभाल कैसे करते हैं।”