in , , , ,

आईपीएल 2018: चेन्नई सुपर किंग्स 17 वें मैच में राजस्थान के खिलाफ इन 11 खिलाड़ियो को उतार सकती है

ड्वेन ब्रावो को बल्लेबाजी करने के लिए कुछ खास मौका नहीं मिला

Chennai Super Kings (Photo Source: IANS)
Chennai Super Kings (Photo Source: IANS)

चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) पुणे में अपने नए घर के मैदान एमसीए इंटरनेशनल स्टेडियम में राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ अपने मजबूत हौसले के साथ उतरेगा. चेन्नई की टीम में मोहाली में केवल 4 रनों से पंजाब के खिलाफ अपना आखिरी मैच गंवा दिया. राजस्थान रॉयल्स को नाइट राइडर्स ने दूसरे दिन आसानी से हरा दिया. दोनों टीमें जीत के ट्रैक पर वापस आने के लिए उत्सुक होंगे. हालांकि यह सीएसके के लिए एक घरेलू मैच माना जाता है और इसमें कोई संदेह नहीं है कि एमएस धोनी की लोकप्रियता के कारण स्थानीय लोगो का भी उन्हें समर्थन मिलेगा.

धोनी ने आईपीएल के आखिरी कुछ सीजन में पुणे में बहुत अच्छा खेल चुके है टीम को रॉयल्स को हराने के लिए हर संभव प्रयास करना होगा और अच्छी तरह से खेलना होगा. उन्हें एक रोमांचक टक्कर के लिए तैयार होना चाहिए. इसलिए कुछ परिवर्तन के साथ चेन्नई राजस्थान के खिलाफ 17 वें मैच में अपने इन 11 खिलाड़ियों पर दांव लगा सकती है.

सलामी बल्लेबाज: (अंबाती रायडू और शेन वाटसन) 

अंबाती रायडू को शीर्ष पर लौटना चाहिए और अपनी टीम के लिए पारी खोलना चाहिए क्योंकि मुरली विजय पिछले खेल में प्रभावित होने में नाकाम रहे. उन्होंने टूर्नामेंट में अब तक अच्छी तरह से खेला है और टीम प्रबंधन उम्मीद कर रहा है कि वह ऐसा ही करे. उन्होंने 3 मैचों में 137.50 की स्ट्राइक रेट के साथ 110 रन बनाए हैं जो बहुत ही प्रभावशाली हैं. और उन्हें इस लय को जारी रखना होगा.

शेन वॉटसन का फॉर्म सीएसके के लिए महत्वपूर्ण है. तीन मैचों में से दो में उन्होंने कुछ खास टीम को नही दिया है. उन्हें अंतिम खेल में जल्दी ही आउट कर दिया गया था. लेकिन उन्हें अब वापस फॉर्म में आने की उत्सुकता होगी. ये लंम्बे समय से कुछ खास फॉर्म में नही दिख रहे है. लेकिन इन्हें इस आईपीएल के सीजन में अच्छा कर फॉर्म में वापसी करने का प्रयास कर सकते है.

मध्य क्रम: (सुरेश रैना, एमएस धोनी और सैम बिलिंग्स)

सुरेश रैना फिट है और उन्हें विजय के स्थान पर टीम में वापसी करनी चाहिए. उन्हें नेट प्रैक्टिस के दौरान काफी लय में देखा गया है. ये सीएसके के लिए एक बड़ा दाव होंगे क्योंकि उन्होंने आखिरी मैच में बहुत चूक की थी. वॉटसन की तरह बाएं हाथ के बल्लेबाज एक बड़ी पारी के कारण हैं. पूरी तरह से फिट और विस्फोटक रैना आगामी मैचों में देखे जा सकते हैं.

महेंद्र सिंह धोनी ने नाबाद 79 रनों की शानदार पारी के साथ आखिरी मैच जीता था लेकिन इस दौरान उनकी पीठ में चोट आई थी. हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि वह इस खेल में खेलेंगे या नहीं. धोनी की उपस्थिति किसी भी टीम के लिए और जिस रूप में वह है उसके लिए महत्वपूर्ण है. अनुभवी खिलाड़ी ही अपने खेल को बदल सकते हैं.

सैम बिलिंग्स के पास इस खेल में भी विकेट को संभाले रखने की अतिरिक्त ज़िम्मेदारी होगी. वो सीएसके के लिए अपने पहले मैच में मैच विजेता थे. लेकिन किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ़ उसे दोहराने में असफल रहे और फिर एक निर्णायक पारी खेलने के लिए उत्सुक होंगे. वह 5 वें नंबर पर फिर से बल्लेबाजी कर सकते है.

ऑल राउंडर्स: (ड्वेन ब्रावो और रवींद्र जडेजा) 

सीएसके के लिए टूर्नामेंट की शुरुआत में अपनी बल्लेबाजी से जीत दिलाने के बाद ड्वेन ब्रावो को बल्लेबाजी करने के लिए कुछ खास मौका नहीं मिला. कुछ और पुरस्कार पाने के लिए उन्हें थोड़ा संयम रखने की जरूरत होगी और नंबर 6 पर बल्लेबाजी करनी होगी. जहां तक ​​उनकी गेंदबाजी का सवाल है उसे थोड़ा सुधार करने की जरूरत है क्योंकि वो आखिरी मैच में बहुत रन दे चुके है. वो डेथ ओवर के बादशाह है और उन्हें इसका एहसास होना चाहिए. और अंतिम के कुछ ओवरों में विपक्ष को रोकने के लिए अच्छी गेंदबाजी करनी चाहिए.

गेंदबाज के रूप में रविंद्र जडेजा की भूमिका काफी अच्छी है. क्योंकि बाएं हाथ के खिलाड़ी ने पिछले मैचों में ज्यादा गेंदबाजी नहीं की है. इसके अलावा उन्होंने बल्ले से भी कुछ नही किया है जो इस खेल में उनके लिए अधिक दबाव डालता है. धोनी उन्हें फिनिशर बनाने के प्रयास में लगे है. लेकिन उन्हें सकारात्मक रूप से जवाब देना चाहिए.

गेंदबाज: (डेविड विली, हरभजन सिंह, दीपक चहर और शार्दुल ठाकुर) 

गेंदबाजी का हमला सीएसके के लिए थोड़ा कम दिखता है और इसी कारण से डेविड विली की जरूरत 11 खिलाड़ियों में पड़ सकती है. इंग्लैंड के क्रिकेटर विली एक शानदार गेंदबाज है और बल्ले से भी काफी करामात दिखाते है. टी-20 में बल्ले के साथ उनका कारनामा अच्छी तरह से जाना जाता है. लेकिन सीएसके को विली की गेंदबाजी पर नज़र रखने की जरूरत होगी. अगर विली आरआर के खिलाफ अपनी आईपीएल की शुरुआत करते है तो वो किस तरह से खेलते ये देखना दिलचस्प होगा.

हरभजन सिंह ने पिछले 3 मैचों में अब तक गेंदबाजी की है लेकिन उन्हें विकेट लेने की जरूरत है. उन्होंने बल्लेबाज को काफी हद तक छकाया है और अच्छा प्रदर्शन किया है ये उच्चतम स्तर पर अपने सभी अनुभवों को सामने ला चुके है. शार्दुल ठाकुर भी अब तक टीम के लिए कुछ खास नहीं साबित कर पाए. लेकिन उन्हें टीम प्रबंधन द्वारा उनके ऊपर दिखाए गए विश्वास को साबित करना होगा. धोनी उन्हें भारतीय टीम में बेहतर गेंदबाजों में से एक के रूप में देखते है और वो ज्यादा मैच खेलने के बाद ही सुधार कर पाएंगे.

दीपक चहर पर भी भरोसा के साथ साथ दबाव में रखा गया है. उन्होंने सीजन की शुरुआत इविन लुईस के विकेट को लेते हुए एक आशाजनक शुरूवात की लेकिन तब से वे फीका हो गए. चहर नए गेंदबाज है. इसलिए उन्हें पारी में जल्दी ही विपक्ष को पीछे हटाना होगा और विपक्ष के विकेट को भी उखड़ना होगा.

Chris Gayle

क्रिस गेल का तूफान आने के बाद ट्विटर पर इस तरह से उड़ा आरसीबी और सनराइजर्स हैदराबाद टीम का मजाक

MS Dhoni

राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ मैच में विकेटकीपिंग नहीं कर सकते है महेंद्र सिंह धोनी