पूर्व मुख्य चयनकर्ता टीम इंडिया के सपोर्ट स्टाफ में धोनी और द्रविड़ को साथ देखना चाहते हैं - क्रिकट्रैकर हिंदी

पूर्व मुख्य चयनकर्ता टीम इंडिया के सपोर्ट स्टाफ में धोनी और द्रविड़ को साथ देखना चाहते हैं

महेंद्र सिंह धोनी आगामी टी-20 वर्ल्ड कप के लिए टीम इंडिया के मेंटोर नियुक्त किए गए हैं।

Rahul Dravid and MS Dhoni. (Photo by LAKRUWAN WANNIARACHCHI/AFP via Getty Images)
Rahul Dravid and MS Dhoni. (Photo by LAKRUWAN WANNIARACHCHI/AFP via Getty Images)

टी-20 वर्ल्ड कप 2021 के बाद टीम इंडिया के कोच रवि शास्त्री का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। BCCI अब उनकी जगह नए कोच की नियुक्ति को लेकर योजना बना रही होगी। कुछ क्रिकेट पंडितों का इसको लेकर मानना है कि अब शास्त्री की जगह राहुल द्रविड़ को भारतीय टीम का अगला कोच बनाया जाना चाहिए। द्रविड़ पिछले कुछ सालों से इंडिया-ए और अंडर-19 टीम के कोच के रूप में दिखे हैं। वहीं, द्रविड़ ने जुलाई में श्रीलंका दौरे पर भारत की सीमित ओवरों की टीम को भी कोचिंग दी थी।

अगले कोच के लिए एमएसके प्रसाद ने क्या कहा ?

इसको लेकर BCCI के पूर्व चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने बड़ी प्रतिक्रिया दी है। टाइम्स ऑफ इंडिया से बातचीत करते हुए प्रसाद ने कहा, “मैं निश्चित रूप से महसूस करूंगा कि आगे चलकर राहुल द्रविड़ और महेंद्र सिंह धोनी को टीम से जुड़ना चाहिए। राहुल एक कोच के रूप में और एमएस एक मेंटोर के रूप में। भारतीय टीम में रवि शास्त्री के कार्यकाल के बाद धोनी और राहुल को देखना शानदार होगा।”

भारत की पिछली सीरीज श्रीलंका में थी, जहां राहुल द्रविड़ बतौर अस्थायी कोच टीम के साथ गए थे और भारत ने वहां सीरीज भी जीती थी। ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले दिनों में BCCI क्या फैसला लेता है। इस बीच 2017 में भारत के मुख्य कोच बने शास्त्री का कार्यकाल काफी अच्छा रहा है। उनके नेतृत्व में विराट कोहली और उनकी टीम ने देश और विदेश में कई यादगार जीत दर्ज की हैं, जिसमें ऑस्ट्रेलिया में दो बार टेस्ट सीरीज जीत शामिल है।

हालांकि, एक ICC खिताब के भारत के सूखे को समाप्त करना एक ऐसा काम है जिसे शास्त्री अपने कार्यकाल में पूरा नहीं कर सके। जबकि विराट एंड कंपनी क्रमशः 2019 विश्व कप के सेमीफाइनल और पहले आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में भी असफल रही। हालांकि, आगामी टी-20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम के पास खुद को साबित करने का सुनहरा मौका होगा, जहां शास्त्री भी टीम को जीत दिलाना चाहेंगे।