... तो अब ऋषभ पंत की वजह से कभी टीम में नहीं आ पाएगा 20 गेंदों में शतक लगाने वाला ये बल्लेबाज़ - क्रिकट्रैकर हिंदी

… तो अब ऋषभ पंत की वजह से कभी टीम में नहीं आ पाएगा 20 गेंदों में शतक लगाने वाला ये बल्लेबाज़

Rishabh Pant (Photo by BCCI/Twitter)
Rishabh Pant (Photo by BCCI/Twitter)

महेंद्र सिंह धोनी के टेस्ट क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद ऋषभ पंत ने उनकी जगह संभाल ली है। साल 2018 में इंग्लैंड सीरीज़ में डेब्यू करने वाले ऋषभ पंत लगातार भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा रहे हैं। वहीं अब सिडनी टेस्ट में उनकी ताबड़तोड़ 159 रनों की पारी ने क्रिकेट के गलियारों में भूचाल ला दिया है।

यानि कि टीम इंडिया को महेंद्र सिंह धोनी के बाद जिस तरह के विकेटकीपर की तलाश थी वह सभी खूबियां ऋषभ पंत में नज़र आ रही हैं।

ऋषभ पंत मैच में कैच तो पकड़ ही रहे हैं साथ ही अपनी आक्रामक बल्लेबाज़ी से विपक्षी टीमों के गेंदबाज़ों के लिए ख़तरे की घंटी बनते जा रहे हैं। लेकिन पंत की वजह से एक बेहतरीन खिलाड़ी अब शायद ही कभी भारतीय टेस्ट टीम में वापसी कर पाएगा।

रिद्धिमान साहा जिन्होंने 20 गेंदों में जड़ा था शतक

ऋषभ पंत ने जब तक टेस्ट टीम में जगह नहीं बनाई थी तो दो विकेटकीपर बल्लेबाज़ भारतीय टेस्ट टीम की कतार में शामिल होने के प्रबल दावेदार था।

जिनमें एक नाम था कि दिनेश कार्तिक का तो दूसरा नाम था रिद्धिमान साहा का। साहा को उनकी घरेलू मैच में खेली गई उस पारी के लिए भी याद किया जाता है।

जिसमें उन्होंने महज़ 20 गेंदों में शतक ठोका था। साल 2018 में क्रिकेट एसोसिएशन बंगाल ने टी20 सीरीज़ का आयोजन किया था।

मोहन बगान क्लब की ओर से खेलते हुए साहा ने महज़ 20 गेंदों में 102 रनों की पारी बंगाल नागपुर रेलवे के खिलाफ खेली थी। इस दौरान साहा ने 6 गेंदों में 6 छक्के लगाए थे।

रिद्धिमान साहा और ऋषभ पंत का टेस्ट रिकॉर्ड

अगर रिद्धिमान साहा के टेस्ट रिकॉर्ड की बात करें तो उन्होंने टीम इंडिया की ओर से 32 मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 1164 रन बनाए हैं। साहा ने टेस्ट क्रिकेट में टीम इंडिया की ओर से खेलते हुए 3 शतक और 5 अर्धशतक लगाए हैं।

उनका बेस्ट स्कोर 108 रन है। अगर बात ऋषभ पंत की करें तो उन्होंने अभी तक 9 टेस्ट खेले हैं। जिसमें वह 696 रन बना चुके हैं। जिसमें उनके नाम 2 शतक और 2 अर्धशतक हैं। पंत का सर्वश्रेष्ठ स्कोर 159 रन है।

जो उन्होंने सिडनी में बनाया था। जिस तरह से पंत रन बनाते जा रहे हैं। उसे देखते हुए लग रहा है कि वह भारतीय टेस्ट टीम में नियमित रूप से जगह बना चुके हैं।

ऐसे में साहा को भी घरेलू मैचों में दमदार प्रदर्शन करना होगा ताकि वह चयनकर्ताओं का ध्यान आकार्षित करते हुए टीम में जगह बनाने में कामयाब हो सकें।