in

उस्मान ख्वाजा ने इस पाकिस्तानी गेंदबाज़ को खेलकर अपनी कमज़ोरी दूर की

उस्मान ख्वाजा ने यहां तक का सफर तय करने के लिए अपनी हर कमज़ोरी को दूर किया और एक मज़बूत बल्लेबाज़ी शैली विकसित की।

Usman Khwaja
Usman Khwaja (Twitter)

ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज़ उस्मान ख्वाजा भारत के खिलाफ हाल ही में समाप्त हुई वनडे सीरीज़ के बाद ऑस्ट्रेलिया टीम में स्थापित हो चुके हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि उन्होंने यहां तक का सफर तय करने के लिए अपनी हर कमज़ोरी को दूर किया और एक मज़बूत बल्लेबाज़ी शैली विकसित की।

उस्मान ख्वाजा का कद इस भारतीय दौरे ने इतना बढ़ा दिया है कि अब डेविड वॉर्नर और स्टीव स्मिथ की ऑस्ट्रेलिया टीम में वापसी होने के बाद भी उस्मान ख्वाजा की टीम में जगह पक्की है और उनकी भूमिका भी बड़ी होगी।

उस्मान ख्वाजा के बारे में यह बात ऑस्ट्रेलिया में मशहूर थी कि वे स्पिन गेंदबाज़ी के अच्छे खिलाड़ी नहीं हैं, लेकिन समय के साथ साथ उन्होंने खुद के बारे में इस राय को बदल दिया।

पाकिस्तान के खिलाफ इस स्पिन गेंदबाज़ को खेलने का हुआ फायदा

ख्वाजा को स्पिन खेलने का जानकर बल्लेबाज़ माना जाता है, लेकिन यह शैली उन्होंने धीरे धीरे विकसित की और स्पिन खेलने में माहिर हो गए।  इसकी पहली झलक उन्होंने अक्टूबर 2018 में दुबई टेस्ट में दिखी जब ख्वाजा ने अपने दम पर 141 रनों की पारी खेलकर टेस्ट बचाया। इस मैच में उस्मान ख्वाजा करीब 9 घंटे तक बैटिंग करते रहे।

इस पूरी सीरीज़ में उस्मान ख्वाजा ने पाकिस्तान के लेग स्पिनर यासिर शाह को बहुत अच्छे से खेला। हालांकि यासिर शाह ने उन्हें आउट भी किया, लेकिन इस दौरान स्पिनर फ्रेंडली विकेट पर उस्मान ख्वाजा ने स्पिन खेलने की बेहतर टैक्निक डेवेलप की।

ख्वाजा की यही प्रैक्टिस उन्हें काम आई और उन्होंने पहले ऑस्ट्रेलिया में और फिर भारत में स्पिन गेंदबाज़ों का बखूबी सामना किया।

उस्मान ख्वाजा स्पिन के खिलाफ अलग अलग तरह के स्वीप शॉट खेलने में सफल रहे। हाल में स्माप्त हुई वनडे सीरीज़ में ख्वाजा अगर भारतीय स्पिन गेंदबाज़ों को कॉन्फिडेंस से खेल रहे थे तो इसका श्रेय यासिर शाह के खिलाफ की गई उस प्रैक्टिस को भी देना होगा जो पांच महीने पहले उन्होंने ऑस्ट्रेलिया टीम के यूएई दौरे के दौरान की थी।

sunny leone ( image source: twitter)

सनी लियोन को महेंद्र सिंह धोनी बल्लेबाज़ी की वजह से नहीं, बल्कि इस वजह से हैं पसंद

Dinesh Karthik

नंबर चार पर दिनेश कार्तिक से बेहतर कोई नहीं विकल्प, फिर विराट कोहली क्यों नहीं दिखाते भरोसा