इन पांच भारतीय खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया में मिला है मैन ऑफ द सीरीज़ अवार्ड, पुजारा महान खिलाड़ियों के क्लब में - क्रिकट्रैकर हिंदी

इन पांच भारतीय खिलाड़ियों को ऑस्ट्रेलिया में मिला है मैन ऑफ द सीरीज़ अवार्ड, पुजारा महान खिलाड़ियों के क्लब में

Cheteshwar Pujara
Cheteshwar Pujara celebrates his hundred. (Photo Source: Twitter)

सिडनी में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला जा रहा चौथा टेस्ट सोमवार को बराबरी पर समाप्त हो गया। भारत भले ही बारिश के कारण यह मैच नहीं जीत सका हो पर कोहली की कप्तानी में टीम ने 71 साल में पहली बार ऑस्ट्रेलिया में सीरीज जीती। भारत ने 2-1 से यह सीरीज अपने नाम की। सीरीज में शतक जमाने वाले चेतेश्वर पुजारा को मैन ऑफ द मैच चुना गया।

चेतेश्वर पुजारा न सिर्फ अपनी इस पारी से दर्शकों का दिल जीता बल्कि ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को यह सबक भी देने में सफल रहे कि कैसे संयम भरी पारी खेलकर टीम को मजबूत स्थि‍ति में पहुंचाया जाता है। उन्होंने एडिलेड, मेलर्बन और सिडनी में शतक जमाए, इनमें से दो में भारत की जीत हुई जबकि एक मैच में बारिश खलनायक बनी और मैच ड्रॉ हो गया।

अपनी इन पारियों की मदद से पुजारा उन खास खिलाड़ियों में शामिल हो गए, जिन्होंने ऑस्ट्रेलिया में मैन ऑफ द सीरीज़ का खिताब जीता है। इनमें के श्रीकांत, कपिल देव, सचिन तेंदुलकर और राहुल द्रविड़ शामिल हैं। पुजारा को द्रविड़ की तरह टीम इंडिया का भरोसेमंद बल्लेबाज माना जाता है। आइए जानते ऑस्ट्रेलिया में क्यों इन दिग्गजों को मैन ऑफ द सीरीज चुना गया था…

कपिल देव और श्रीकांत ने रचा इतिहास : 1985-86 में पहली बार किसी भारतीय को उसके शानदार खेल की वजह से मैन ऑफ द सीरीज का खिताब मिला था और इस सीरीज में कपिल देव और श्रीकांत दोनों को संयुक्त रूप से यह अवॉर्ड दिया गया था। श्रीकांत ने इस सीरीज के 3 मैचों में 291 रन बनाए थे जबकि कपिल देव 135 रन बनाने के साथ ही 12 विकेट भी लेने में सफल रहे थे। इस सीरीज में तीनों ही मैच बराबरी पर समाप्त हुए थे।

सचिन तेंदुलकर ने इस तरह जीता सबका दिल : इस सीरीज के 15 साल बाद सचिन तेंदुलकर ने ऑस्ट्रेलिया में अपनी बेहतरीन बल्लेबाजी से सभी का दिल जीत लिया। 3 टेस्ट मैचों की सीरीज में सचिन ने 1 शतक और 2 अर्धशतकों की मदद से 278 रन बनाए। ऑस्ट्रेलिया यह सीरीज 3-0 से जीतने में सफल रहा था।

राहुल द्रविड़ का दोहरा शतक : 2003-04 में राहुल द्रविड़ ने चार टेस्ट मैचों की सीरीज में जबरदस्त प्रदर्शन कर ऑस्ट्रेलियाई टीम को हैरान कर दिया। उन्होंने न सिर्फ यहां दोहरा शतक लगाया बल्कि सभी मैचों में शानदार खेल दिखाया। उन्होंने इस सीरीज में 619 रन बनाए।