रणजी ट्रॉफी फाइनल: चिन्नास्वामी स्टेडियम में नजर आए दीपक चाहर, फैंस ने लगाए CSK..., CSK.... के नारे - क्रिकट्रैकर हिंदी

रणजी ट्रॉफी फाइनल: चिन्नास्वामी स्टेडियम में नजर आए दीपक चाहर, फैंस ने लगाए CSK…, CSK…. के नारे

बेंगलुरु के एम् चिन्नास्वामी स्टेडियम में इस वक्त रणजी ट्रॉफी का फाइनल मैच खेला जा रहा है।

Deepak Chahar. (Photo Source: Twitter)
Deepak Chahar. (Photo Source: Twitter)

बेंगलुरु के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम में इस वक्त मुंबई और मध्य प्रदेश के बीच रणजी ट्रॉफी का फाइनल मैच खेला जा रहा है। इस मैच को देखने के लिए चेन्नई सुपर किंग्स और भारत के तेज गेंदबाज दीपक चाहर शनिवार, 25 जून को मैच के चौथे दिन चिन्नास्वामी स्टेडियम पहुंचे। चाहर इस वक्त चोटिल होने की वजह से टीम इंडिया से बाहर हैं और NCA में रिहैब के दौर से गुजर रहे हैं।

चाहर को फरवरी में वेस्टइंडीज सीरीज के दौरान चोट लग गई थी और उन्हें इलाज के लिए एनसीए भेजा गया था। इसके बाद वह आईपीएल 2022 में दूसरे हाफ में वापसी करने के लिए तैयार थे, लेकिन इस दौरान उन्हें एक और चोट लगी, जिसके बाद वो पूरे टूर्नामेंट से बाहर हो गए थे। उसी चोट की वजह से उन्हें दक्षिण अफ्रीका और आयरलैंड सीरीज के लिए भी टीम में नहीं चुना गया।

जब चाहर ने रणजी फाइनल के दौरान स्टेडियम में प्रवेश किया, तो मैदान पर मौजूद फैंस ने ‘सीएसके, सीएसके’ का नारा लगाना शुरू कर दिया और उन्होंने तेज गेंदबाज के लिए तालियां भी बजाई। इस दौरान, चाहर के चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान थी और उन्होंने फैंस को अपना अभिवादन भी दिया।

यहां देखिए दीपक चाहर का वो वीडियो

व्हाइट बॉल क्रिकेट में भारत के स्टार गेंदबाजों में से एक, दीपक चाहर आखिरी बार फरवरी में खेलते हुए नजर आए थे। उसके बाद से चाहर सेलेक्शन के लिए उपलब्ध नहीं थे, ऐसे में BCCI ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हाल ही में समाप्त हुई T20I सीरीज के लिए पहली बार पेसर अर्शदीप सिंह और उमरान मलिक को टीम में शामिल किया।

मैच का हाल

रणजी फाइनल की बात करें तो मुंबई के खिलाड़ी रिकॉर्ड 42वें खिताब पर अपना हाथ जमाना चाहते हैं, जबकि मध्य प्रदेश के खिलाड़ी अपना पहला रणजी ट्रॉफी जीतकर इतिहास रचना चाहते हैं। सरफराज खान के शानदार शतक ने पृथ्वी शॉ की अगुवाई वाली मुंबई को पहली पारी में 374 रन बनाने में मदद की।

जवाब में, मध्य प्रदेश ने शानदार शुरुआत की। उनके टॉप ऑर्डर बल्लेबाज यश दुबे और शुभम शर्मा के शतकों के बाद रजत पाटीदार के शानदार और महत्वपूर्ण शतक ने टीम को एक मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया। तीन शतक के बदौलत एमपी को 500 से अधिक रन बनाने में मदद की। मध्य प्रदेश की टीम पहली पारी में 536 रन बनाकर ऑलआउट हुई।