प्यार करने वाले लोगों से भरे कमरे में भी मैंने खुद को अकेला पाया है- विराट कोहली - क्रिकट्रैकर हिंदी

प्यार करने वाले लोगों से भरे कमरे में भी मैंने खुद को अकेला पाया है- विराट कोहली

मेंटल हेल्थ का सामना करने के लिए विराट ने एथलीटों को कुछ टिप्स भी दिया है।

Virat Kohli (Photo Source: Twitter)
Virat Kohli (Photo Source: Twitter)

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान विराट कोहली ने एक एथलीट के लिए अन्य बातों के अलावा दबाव और आलोचना के बीच मानसिक स्वास्थ्य को सही बनाए रखने के महत्व के बारे में बात की है। उन्होंने बताया कि कई बार कई मौकों पर प्यार करने वाले लोगों से भरे कमरे में भी, उन्होंने अकेला महसूस किया है। उनका मानना ​​है कि यह एक ऐसी भावना है जिससे बहुत से लोग खुद को जोड़ पाएंगे।

कोहली को लगता है कि जब भी कोई खुद से दूर हो जाता है तो उस इंसान के लिए कुछ समय निकालकर और खुद को खुद से दोबारा जोड़ना जरूरी है। उन्होंने कहा कि एक एथलीट को टाइम मैनेजमेंट करना सीखना चाहिए ताकि संतुलन बना रहे। उन्होंने कहा कि इसके लिए अभ्यास करना होता है। साथ ही उन्हें लगता है कि यही एकमात्र तरीका है, जिससे आप अपना काम करते हुए मानसिक स्वास्थ्य और आनंद की भावना महसूस कर सकते हैं।

इंडियन एक्सप्रेस के साथ हालिया बातचीत में विराट कोहली ने कहा कि, “एक एथलीट के लिए, खेल एक खिलाड़ी के रूप में आप में से सर्वश्रेष्ठ ला सकता है लेकिन उसी के साथ आप जिस दबाव में लगातार रहते हैं, वह आपके मानसिक स्वास्थ्य को नकारात्मक रूप से प्रभावित कर सकता है। यह निश्चित रूप से एक गंभीर मुद्दा है और जितना अधिक है हम हर समय मजबूत होने की कोशिश करते हैं, यह आपको तोड़  सकता है।”

अपने लिए समय निकालें और अपने आप से फिर से जुड़ें- विराट कोहली

खेल से जुड़े हुए लोगों को कोहली की सलाह यह है कि जहां एक अच्छा एथलीट बनने के लिए शारीरिक फिटनेस पर ध्यान देना जरूरी है, वहीं आंतरिक रूप से लगातार खुद के संपर्क में रहना भी जरूरी है। उन्होंने यह भी कहा कि एक चीज जिसने उन्हें व्यस्त शेड्यूल के बाद आराम देने में मदद की, वह है परिवार के साथ समय बिताना। उन्होंने यह भी कहा कि इस जर्नी ने उन्हें “तनाव कम करने” में मदद की है।

उन्होंने आगे कहा कि, “मैंने व्यक्तिगत रूप से ऐसे समय का अनुभव किया है जब मुझे सपोर्ट और प्यार करने वाले लोगों से भरे कमरे में भी मैं खुद को अकेला महसूस करता था और मुझे यकीन है कि यह एक ऐसी फीलिंग है, जिससे बहुत से लोग कनेक्ट कर सकते हैं। इसलिए, अपने लिए समय निकालें और अपने आप से फिर से जुड़ें। यदि आप उस संबंध को खो देते हैं, तो अन्य चीजों को आपके चारों ओर उखड़ने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।”