जॉर्ज बेली बने ऑस्ट्रेलियाई टीम के नए मुख्य चयनकर्ता - क्रिकट्रैकर हिंदी

जॉर्ज बेली बने ऑस्ट्रेलियाई टीम के नए मुख्य चयनकर्ता

जॉर्ज बेली ऑस्ट्रेलियाई चयन समिति का साल 2019 से हिस्सा हैं।

George Bailey. (Photo by Graham Denholm/Getty Images)
George Bailey. (Photo by Graham Denholm/Getty Images)

ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व बल्लेबाज जॉर्ज बेली को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम का मुख्य चयनकर्ता बनाया गया। इससे पहले ट्रेवर हॉर्न्स  यह जिम्मेदारी संभाल रहे थे, लेकिन उनका कार्यकाल पूर्ण होने के बाद अब बेली को उनकी जगह पर नियुक्त किया गया है। जॉर्ज बेली ने साल 2012 से 2016 तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलते हुए 90 वनडे और 30 टी-20 मैच भी खेले हैं वहीं इस दौरान बेली ने एक कप्तान के तौर पर जिम्मेदारी संभाली है।

38 साल के जॉर्ज बेली ऑस्ट्रेलियाई चयन समिति का हिस्सा साल 2019 से हैं और अब वह अपनी नई भूमिका में दिखेंगे। जॉर्ज बेली के सामने मुख्य चयनकर्ता के तौर पर सबसे पहले 2 बड़े इवेंट में टीम का चयन करना है। इसमें एक आईसीसी टी-20 वर्ल्ड कप और दूसरा एशेज सीरीज है। इस समय ऑस्ट्रेलियाई पुरुष टीम उतार-चढ़ाव के दौर से गुजरती हुई साफ तौर पर देखी जा सकती है।

मैने ट्रेवर से काफी कुछ सीखा है

अपनी नई भूमिका को संभालने के बाद जॉर्ज बेली ने ट्रेवर हॉर्न्स के कार्यकाल की तारीफ करते हुए कहा कि मैने उनसे काफी कुछ सीखा और उसे ही आगे बढ़ाने का प्रयास करुंगा। क्रिकेट डॉट कॉम एयू को दिए बयान में बेली ने कहा कि मैं सबसे पहले ट्रेवर हॉर्न्स को धन्यवाद देना चाहूंगा जिनके समय में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने काफी सफलता हासिल की जिसमें मेरा भी अंतरराष्ट्रीय करियर एक खिलाड़ी और कप्तान के तौर पर शामिल है।

ऐसे चुनौतीपूर्ण कार्य के बावजूद ट्रेवर हमेसा शांति के साथ अपना काम करते रहे जो काबिलेतारीफ है। उन्होंने एक खिलाड़ी के बाद मेरा चयनकर्ता के तौर पर बदलाव में भी काफी मदद की मैने  ट्रेवर से काफी कुछ सीखा है और उसे ही आगे बढ़ाने का लगातार प्रयास भी करूंगा।

ट्रेवर हॉर्न्स ने साल 1991 से लेकर 2005 तक मुख्य चयनकर्ता के तौर पर लगातार काम करने के बाद कुछ समय के लिए अपने पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद उन्हें फिर से इस पद पर नियुक्त किया गया। हॉर्न्स ने लगभग 21 सालों तक इस जिम्मेदारी को निभाया है। उनके कार्यकाल के समय ऑस्ट्रेलियाई टीम ने साल 1999 और 2003 के वनडे वर्ल्ड कप को अपने नाम किया था।