महेंद्र सिंह धोनी के 40वें जन्मदिन पर नजर डालिए उनके 5 ऐसे रिकॉर्ड्स पर जिनका टूटना बेहद मुश्किल - क्रिकट्रैकर हिंदी

महेंद्र सिंह धोनी के 40वें जन्मदिन पर नजर डालिए उनके 5 ऐसे रिकॉर्ड्स पर जिनका टूटना बेहद मुश्किल

भारत को अपनी कप्तानी में आखिरी आईसीसी ट्रॉफी जिताने वाले महेंद्र सिंह धोनी के करियर के वह 5 रिकॉर्ड्स जिनका टूटना बेहद मुश्किल है।

ms dhoni (Photo Source: Twitter)

किसी भी व्यक्ति के लिए जीवन में सफल होने के लिए जितना उसे किस्मत का साथ चाहिए होता है, उससे कहीं ज्यादा मेहनत भी करनी पड़ती है। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के करियर को देखा जाए तो वह सभी के लिए काफी बड़ी प्रेरणा का काम करेगी। रांची जैसे एक छोटे शहर से निकलकर एक दिन पूरी क्रिकेट दुनिया पर अपनी बादशाहत का लोहा मनवाना धोनी के करियर का यह सबसे बड़ा पल रहा था।

साल 2004 में जब धोनी को पहली बार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में खेलने का मौका मिला तो उनके करियर की पहली सीरीज बांग्लादेश के खिलाफ थी और उसमें वह कुछ खास नहीं कर सके थे। इसके बाद टीम में धोनी की जगह को लेकर भी सवाल खड़े होने लगे लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ हुई घरेलू वनडे सीरीज में धोनी ने शानदार शतकीय पारी खेलते हुए टीम में अपनी जगह को पक्का कर लिया था। उस समय भारतीय टीम को भी एक ऐसे विकेटकीपर बल्लेबाज की तलाश थी, जो विकेट के आगे और पीछे शानदार खेल दिखा सके।

यहां से धोनी का अंतरराष्ट्रीय करियर का जो सुनहरे सफर की शुरुआत हुई उसके बाद पूरी क्रिकेट की दुनिया में उनके खेल का दम देखने को मिला। धोनी के विकेटकीपिंग करने के तरीके को लेकर सवाल किए गए लेकिन वह अपने तरीके में काफी सफल रहे और आज धोनी के तरीके को भी क्रिकेट में सिखाया जाने लगा है। जिस तेजी के साथ धोनी विकेट के पीछे गिल्लियों को बिखेर देते थे, उससे बल्लेबाज के लिए भी एक लगातार दबाव की स्थिति बनी रहती थी।

धोनी की बल्लेबाजी को लेकर बात की जाए तो समय बदलने के साथ वह बेस्ट फिनिशर के तौर पर सामने आए। अपने करियर में धोनी टीम को कई ऐसे मैचों में जीत दिलाई जिसकी किसी ने उम्मीद नहीं की थी। धोनी के कारण ही आज के समय में भारतीय टीम के पास विकेटकीपरों का ऐसा बैकअप तैयार हो चुका है जो बेखौफ अंदाज में बल्लेबाजी करने के साथ विकेट के पीछे भी काफी बेहतर प्रदर्शन कर सकते हैं। हम आपको इस आर्टिकल में धोनी के 40वें जन्मदिन के मौके पर उनके करियर के 5 ऐसे रिकॉर्ड्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका आने वाले भविष्य में टूटना काफी मुश्किल है।

भारतीय टीम के लिए सबसे ज्यादा मैच में कप्तानी की रिकॉर्ड

भारती के लिए क्रिकेट में अभी तक सबसे ज्यादा मैच में कप्तानी करने का रिकॉर्ड महेंद्र सिंह धोनी के नाम पर है। उन्होंने भारत के लिए कुल 332 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। धोनी ने 60 टेस्ट, 72 टी-20 और 200 वनडे मैचों में भारतीय टीम की लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बतौर कप्तान खेला है। धोनी की कप्तानी में भारतीय टीम ने 178 मुकाबलो में जीत हासिल की जबकि उसे 120 मैच में हार का सामना करना पड़ा।

विकेटकीपर के तौर पर वनडे में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर धोनी के नाम वनडे में सर्वाधिक व्यक्तिगत स्कोर करने का रिकॉर्ड दर्ज है। साल 2005 में श्रीलंका के खिलाफ जयपुर वनडे मैच में धोनी ने 183 रनों की नाबाद पारी खेली थी। उन्होंने इस मैच में एडम गिलक्रिस्ट के साल 2004 में जिम्बाब्वे के खिलाफ खेली गई 172 रनों की पारी के रिकॉर्ड को तोड़ दिया था।

बतौर कप्तान 7वें नबर पर शतक लगाने वाले एकमात्र बल्लेबाज

महेंद्र सिंह धोनी को अपने करियर में पाकिस्तान के खिलाफ खेलना काफी पसंद था। साल 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ वनडे मैच के दौरान धोनी बतौर कप्तान 7वें नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे थे, जिसके बाद उन्होंने 113 रनों की पारी खेल दी। यह वनडे क्रिकेट में बतौर कप्तान 7वें नंबर पर किसी खिलाड़ी ने पहली बार शतकीय पारी खेली थी।

3 अलग-अलग आईसीसी ट्रॉफी जीतने वाले एकमात्र कप्तान

कप्तानी के मोर्च पर धोनी को सबसे खतरनाक माना गया है। वह गेम को जिस तरह से पढ़ने की क्षमता रखते हैं, उसके सभी हमेशा कायल रहेंगे। धोनी वर्ल्ड क्रिकेट में एकलौते ऐसे कप्तान हैं, जिन्होंने 3 अलग-अलग आईसीसी ट्रॉफी को बतौर कप्तान जीता है। साल 2007 में आईसीसी टी-20 ट्रॉफी, साल 2011 में वनडे वर्ल्ड कप, साल 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी भारतीय टीम ने धोनी की कप्तानी में जीती है।

सबसे ज्यादा स्टंपिंग का रिकॉर्ड

ऐसा कई बार कहा गया है कि धोनी बिजली की भी तेज गति के साथ धोनी विकेट के पीछे गिल्लियों को बिखेर देते हैं। धोनी के नाम वर्ल्ड क्रिकेट में अभी तक सबसे ज्यादा स्टंपिंग करने का रिकॉर्ड दर्ज है। धोनी ने 192 खिलाड़ियों को स्टंप आउट किया है, जिसमें टेस्ट में 38, वनडे में 120 और टी-20 में 34 स्टंपिंग करने का रिकॉर्ड दर्ज है।